शिवरात्री में शिवलिंग के पूजन से ग्रह दोषों का निवारण


Shiv Ratri & Kaal Sarp Dosh

जिन जातको की जन्म कुंडली में सूर्य पीड़ित है या जातक को सूर्य से कष्ट है | पिता से ना बनती हो या आखो की रौशनी की समस्या हो तो शिवरात्री के दिन शिवलिंग की आक के पुष्पों , पत्तो , या फिर बेल पत्रों से पूजन करे | यदि जातक को मंगल के कारण कष्ट हो या खून से सम्बंधित रोग हो तो शिवरात्री के दिन जातक को गिलोय के रस से शिवलिंग का  अभिषेक करना चाहिए | जातक यदि बुद्ध से पीड़ित है या जातक को चर्म रोग या गुर्दे की बिमारी हो तो शिवरात्री के दिन शिवलिंग को बिदारा जड़ी बूटी के रस से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए | जातक यदि वृहस्पति ग्रह से पीड़ित हो या जातक को चर्वी , आतो , या लीवर आदि की बिमारी हो तो शिवरात्री पर शिवलिंग पर हल्दी मिश्रित दूध अर्पित करे | शुक्र खराब होने पर वीर्य , मल , मूत्र , या शारीरिक शक्ति की बिमारी हो जाती है | बिमारी से निजात पाने के लिए या शुक्र ग्रह को ठीक करने के लिए शिवलिंग पर पंचामृत , शहद , या घृत से अभिषेक करे | जन्म कुंडली में शनि के पीड़ित होने से मांसपेशियों का दर्द , जोड़ो का दर्द , या एनी कई लाइलाज बिमारी हो जाती है | शनि से सम्बंधित बिमारी से निजात पाने के लिए शिवरात्री के दिन शिवलिंग का गन्ने के रस से और छाछ से अभिषेक करना चाहिए | राहू केतु नामक छाया ग्रह सर चकराना , मानसिक परेशानी , अथ्रंग , नामक बिमारी का कारण होते है | इन बीमारियों से निजात पाने के लिए मृत संजीवनी का पाठ करना चाहिए या भांग और धतूरे से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए |

सुख समृद्धि पाने के लिए शिवरात्री को शिवलिंग पर साबुत चावल अर्पित करना चाहिए |

विवाह बाधा दूर करने के लिए शिवलिंग पर एक सौ आठ बेलपत्र अर्पित करना चाहिए |

अपनी उम्र के बराबर बेल पत्र लेकर उस पर राम राम लिख कर अर्पित करने से दरिद्रता दूर होती है |

दुश्मन नाश के लिए शिवलिंग पर सरसों का तेल अर्पित करना चाहिए |

संतान प्राप्ति के लिए शिवलिंग पर गेहू या गेहू से बने पदार्थ अर्पित करना चाहिए |

शिवलिंग पर चमेली के तेल को अर्पित करने से शारीर रोग मुक्त हो जाता है |

शिवलिंग पर काला उड़द या काला तिल अर्पित करने से मुकदमो से निजात मिलता है |

कपूर की आरती करने से बाधाये दूर हो जाती है


नाग नागिन के जोड़े से शिवरात्री में करे काल सर्पदोष का निवारण




SERVICES OF HIPNOTIZAME

वशीकरण