शत्रु का नाश करने का टोटका


Shatru ka nash karne ka totka

शत्रु का सही मायने में मतलब है की जो बिना किसी वजह के अपने शत्रु या मित्र का जीना मुहाल करदे | शत्रु कभी पीछे से वार करता है तो कभी बिलकुल सामने से आकर | शत्रु हमारा भाई , रिश्तेदार , संतान , ऑफिस के सहकर्मी , व्यापार में भागीदार , या पत्नी के रिश्तेदार भी हो सकते है | शत्रु का सफाया करने से पहले अपनी जन्म कुंडली किसी विद्वान् ब्राह्मण से अवश्य ही चेक करवा लेना चाहिए | जन्म कुंडली का छठा घर शत्रु का ही होता है | यदि आपकी जन्म कुंडली में शत्रु योग है तो आप यह अवश्य जान ले की आपके शत्रुओ की संख्या लगातार बढती ही रहेगी | मै यहाँ पर आपको शत्रु को नाश करने के कुछ उपाय बता रहा हूँ | यदि आप यह उपाय करेंगे तो आपके शत्रु अवश्य समाप्त हो जायेंगे | साथ ही आपको किसी वास्तु शास्त्री से अपने घर का वास्तु दोष की जांच अवश्य करा लेनी चाहिए | यदि घर में कोई वास्तु दोष होगा या घर में या कार्यालय में नकारात्मक ऊर्जा होगी तो भी आपके शत्रुओ की संख्या ज्यादा रहेगी | उपाय के अनुसार आपको घर या कार्यालय के अंदर से रद्दी , कबाड़ , बंद घडिया ,खराब बिजली के सामान , फटे कपडे , जले कपडे , सूखे फूल या पौधे तुरंत हटा देना चाहिए |

परिणाम :

शत्रु आधा पागल हो जाए या पूरा पागल हो जाए |

शत्रु के पुरे या आधे शारीर में लकवा मार जाए |

शत्रु तड़फ तड़फ कर मर जाए |

शत्रु का व्यापार ठप्प हो जाए |

शत्रु की नौकरी छूट ज्स्ये |

शत्रु का दुर्घटना में शारीरिक नुक्सान |

शत्रु के घर में संतान पैदा ही ना हो , यदि हो तो मर जाए |

शत्रु के घर में कलेश , पारिवारिक सदस्यों में मार पीट |

शत्रु के घर में चोरी |

शत्रु के घर में आग |

शत्रु के घर में प्रेतात्मा का प्रवेश |

 

सामग्री :

माला –काले रंग की माला

समय –अमावश्या या शनिवार की मध्य रात्री

दिन  - अमावश्या या फिर शनिवार

वस्त्र –काले रंग का उनी आसन

दिशा –साउथ दिशा

जाप संख्या -  सवा लाख

अवधि –पंद्रह  दिन

मंत्र :

|| ॐ नमो काल रात्री( अमुकस्य ) शत्रु नाशय नाशय ॐ फट स्वाहा ||

यहाँ पर आपको अमुकस्य के स्थान पर अपने शत्रु का नाम लेना है |

प्रयोग :

अमावस्या या शनिवार को काले रंग के  वस्त्र या काली धोती पहनकर ही साधना में बैठना चाहिए | दीपक के लिए रूई की बत्ती को भी पहले काले  रंग में रंग कर सुखा लेना चाहिए | देवी पर जो पुष्प अर्पित किये जायेंगे वह भी काले रंग के ही होने चाहिए | देवी को काले उड़द की बनी हुई  मिठाई का ही भोग लगाया जाना चाहिए | साधना की समस्त सामग्री  काले रंग की ही होनी चाहिए |

महीने की किसी भी अमावस्या या शनिवार से इस प्रयोग को प्रारम्भ करके पूर्ण निष्ठा के साथ लगातार पंद्रह दिनों  में सवा लाख मंत्रो का जाप करे | मंत्र जाप के लिए  काले रंग की ही माला का प्रयोग करना चाहिए | मंत्र का जाप समाप्त होते होते ही माता  की कृपा प्राप्ति संभव है | जाप के बीच में किसी भी प्रकार की बाधा आये तो बिचलित ना हो |

 

 

 

दुश्मन को मारने का टोटका , दुश्मन मारण मंत्र , शत्रु शमन टोटका , शत्रु शमन के मंत्र , शत्रु नाश का उपाय , शत्रु को भगाने का उपाय ,

 


शत्रु का नाश करने का टोटका




SERVICES OF HIPNOTIZAME

वशीकरण