वशीकरण के लिए शिवरात्रि पर कैसे करे शिव का अभिषेक | शिवरात्री विशेष


Vashikaran At Basant Month Shiv Ratri Festival

वैदिक पूजा पद्धति के अनुसार वशीकरण के लिए भगवान् शिव की पूजा दो प्रकार से होती है | १- पंचोपचार पूजा २- षोडशोपचार पूजा | शिवरात्री के दिन  स्नान के पश्चात नए या धुले हुए वस्त्र या रेशमी वस्त्र पहनकर भस्म का तिलक लगाकर रुद्राक्ष की माला धारण कर वशीकरण के लिए भगवान् शिव की पूजा की जाती है | चन्दन , पुष्प ( बेल पत्र तथा फूल ) धुप दीप , तथा प्रसाद , इन पांच वस्तुओ से पूजन करना पंचोपचार पूजा कहलाता है | जबकि १ आवाहन २- आसन ३- पाद्य ४- स्नान ५- अर्ध्य ६- अभिषेक ७- आचमन ८- वस्त्र ,उपवस्त्र ९- गंध अक्षत १०- पुष्प बेलपत्र ११- धुप १२- दीप १३- प्रसाद १३- पान ,सुपारी १४- फल १५- दक्षिणा १६- आरती , इन सोलह उपचारों से पूजन करना षोडशोपचार पूजा कहलाती है | घर में पूजा करनी हो तो पार्थ्वेश्वर या नर्मदेश्वर के लिंग की पूजा करनी चाहिए | मंदिर में भगवान् शिव , पार्वती , गणेश , कार्तिकेय , तथा नन्दीश्वर समेत शिव पंचायत की  पूजा करने से सर्वश्रेष्ठ  फल की प्राप्ति होती है | भक्तजन वशीकरण के लिए शिवलिंग पर अखंड जलधारा से अभिषेक करते है जिसे वशीकरण के लिए रुद्राभिषेक कहा जाता है | शिव पुराण में वशीकरण के लिए बिभिन्न द्रव्यों से भगवान् शिव के अभिषेक करने का फल कुछ इस तरह से बताया गया है |

  • गन्ने के रस से अभिषेक करने से धन की प्राप्ति होती है |
  • शहद से अभिषेक करने से अखंड लक्ष्मी की प्राप्ति होती है |
  • दूध से अभिषेक करने से पुत्र संतान की प्राप्ति का सुख मिलता है |
  • गंगा जल से अभिषेक करने से मुक्ति का मार्ग खुलता है |
  • सरसों के तेल से शत्रु का नाश होता है |
  • घी के अभिषेक से समस्त इक्षाओ की पूर्ति होती है |
  • सुगन्धित तेल से अभिषेक करने से मनचाही स्त्री या पुरुष के प्यार की प्राप्ति होती है |

यदि पूजन सामग्री ना हो तो केवल एक लोटा जल से अखंड धारा में “ ॐ नमः शिवाय” का मंत्र जाप करते हुए जल अभिषेक करने से भी भगवान् शिव प्रसन्न हो जाते है | यु तो शिव की पूजा आप कभी भी कर सकते है किन्तु प्रदोष काल में ( यानी की सूर्यास्त से एक घंटे पहले या एक घंटे बाद में ) शिव पूजा करना अति उत्तम फल देता है | भगवान् शिव को भस्म , लालचंदन , रुद्राक्ष , आक के फूल , धतूरे का फल , भांग तथा बेलपत्र अति प्रिय है | वशीकरण के लिए शिव पूजन के बाद भगवान् शिव का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए इस मंत्र का यथा शक्ति जाप करना चाहिए |

शिव कृपा प्राप्ति वशीकरण मंत्र :

|| ॐ नमः महादेवाय मनोवांक्षित ( स्त्री / पुरुष ) मम वशं कुरु कुरु स्वाहा ||


वशीकरण | शिवरात्री पर पञ्च मुखी रुद्राक्ष मंत्र “ ॐ रं रुद्राय शिवाय सर्वाभाद्राय ॐ नमः “




SERVICES OF HIPNOTIZAME

वशीकरण