भाग्यशाली कवच


lucky kawach

 

 

ग्रहकलेश  निवारण  कवच

आज के इस युग को  अर्थ विषमता  का युग कहा जाता है | धन की  जरुरत  आज सर्वोपरि है | आयु की नियुनता और खर्च  की अधिकता  , भोतिकता की चाह , एश्वर्या भोगने की इच्छा , पढ़- लिख  कर भी बेकार रहने  के कारन प्राय : घर – परिवार  में कलह का वातावरण बना रहता है | प्राय : अधिकांश व्यक्ति तनाव ग्रस्त  है | कलह के कई और कारन भी होना संभव है \ परस्पर  अविश्वास  , चाहत की नियुनता , मन मुटाव  , कुतुम्भ  का असहयोग आदि अनेक कारणों से ग्रह – कलह होते है | हर संभव उपाय करके भी व्यक्ति ग्रह-कलेश  से छुटकारा नहीं पा सकता है | प्राय : प्रयास  करने पर भी दूरियाँ बढती चली जाती है , ऐसी ही परिस्थिति से मुक्ति पाने हेतु ग्रह कलेश निवारण कवच का निर्माण किया गया है , जिसे धारण कर अपने घर परिवार में उस्ख – शांति का अनुभव करेंगे |

 

शत्रु  नाश के लिए बंगलामुखी  कवच

यह समय घोर प्रतिसप्रधा  का है | हर व्यक्ति दुसरो के सुख से दुखी है , उसे अपना सुख छोटा और दुसरो का सुख माहान दीखता है | भाई – भाई से इर्षा , बेर – विरोध  , आस –पड़ोस से लड़ाई –झगडे  , व्यापारियों से प्रतिसप्रधा , सहयोगी – करमचारियो से आगे निकलने की होड़ बढती मारपीट  , हत्या , कोर्ट –कचहरी  के मामले में बदल जाती है | कई व्यक्ति दुसरो  से तांत्रिक प्रयोग , मरण प्रयोग तक करवाने लगते है | ऐसे में हर समय घात –प्रतिघात  का भय सदेव लगा रहता है | घर से बाहर है तो घर में पत्नी , बच्चो  की चिंता , घर में है तो भी हर समय किसी बुरा होने की सम्भावना लगी रहती है | प्रशन उठ्त्ता है की आखिर इसका उपाय क्या है | हमारे  पवित्र  ग्रन्थ इनका उत्तर देते है – यदि जीवन में शत्रु  , कष्ट  , मान – अपमान . कलह  से रक्षा करनी है तो ‘ बंगलामुखी कवच ‘ धारण करना ही सही उपाय है |

 

विवाह बाधा निवारण कवच

मनुष्य की प्रकीर्ति रही है  की वह  अकेला नहीं रह सकता है | किसी न किसी का साथ चाहता है , युवा अवस्था में आते ही उसे एक ऐसे साथी की आवश्यकता पड़ती है | जो जीवन भर उसका निभा सके , विवाह एक ऐसा समय होता है , उस  उम्र में संम्पन हुआ विवाह ही वैवाहिक जीवन को रस – गंधमय  बनता है |  समय पर विवाह न होने से लड़के – लडकिया विभिन  मानसिक तथा शारीरिक रोगों से ग्रस्त हो जाते है , साथ ही उनके अभिवाभावक  भी मानसकी अशांति महसूस करते है | यदि आप भी अथवा आपका परिवार का कोई भी सदस्य अधिक उम्र का होने की वजह से परेशान है  तो यह कवच उसकी समस्या को हल कर देता है | ऐसे ही युवाओ के लिए यह विशेष कवच का  निअर्मन किया गया है  जिसे धारण अकरने से शीघ्र ही आपके विवाह में आने वाली समस्याओ  का निवारण हो जायेगा  और आपक विवाह तय हो जायेगा |

 

क़र्ज़ निवारण कवच

क़र्ज़ जिसे दुसरे शब्दों में अभिशाप कहते है  | यह वह अभ्शाप है जो कई लोगो पर चढ़ा ही रहता है और चढ़ता ही जाता है  जिससे व्यक्ति में निराशा  व हताशा  का माहोल बन जाता है | अत : शास्त्रों में क़र्ज़ निवारण हेतु मंगल यन्त्र पूजन व जाप का विधान है | भक्ति का श्रद्धा  पूर्वक अगर इनका विधवत  अनुष्ठान किया जाये तो व्यक्ति निश्चय ही क़र्ज़ से मुक्त होकर धन धन्य व समृद्धि  को प्राप्त  करता है | विधाता ने यह वर दिया है की मानव ग्रहो  की अधीन है अत : उसके उत्थान  और पतन के कारणग्रह है | यदि  यतन पूर्वक उनका पूजन किया जाये तो वे अनुकूल होकर अपना अनिस्थ दोष निवारण कर देते है  और शुभ फल देते है | इसलिए अनिस्थ्कारक  ग्रह को मंतर – तंत्र  व पूजन द्वारा  शांत करना आवश्यक है | इसलिए पाठको के हित  को सर्वोपरि रखते हुए ही प्राण – प्रठिस्था क़र्ज़ मोचन मंगल कवच का निर्माण किया गया है  जो शीघ्र फल देता है |

शनि साढ़ेसाती निवारण कवच

शनि के साथ जब साढ़े साती शब्द लग जाता है  तो यह भयानकता का पर्याय  बन जाता है | साढ़ेसाती  के समय में जातक को अनेक दुविधाओ , अनेक समस्याओ का सामना करना पड़ता है | उसे हर जगह असफलता  मिलती है | जब श्री राम को साढ़ेसाती  आई तो वनवास हो गया था , रावण पर जब साढ़ेसाती  आई तो राम – लक्ष्मण  ने सेना लेकर लंका पर चड़ाई कर दी  , रावण के कुल का नाश कर दिया  था | जब द्रोपदी  की साढ़ेसाती  आई तो उसकी बुद्धि को ब्रह्मित  कर बुरे वचन कहलवाए और पांडवो  को वनवास भोगना पड़ा | शनि  बहुत से कष्ट देते है  , बिज़नस में हानि  , आकाल  , रोग | ऐसे में आवश्यक है की साढ़ेसाती  की निवारण का प्रयास किया जाये , इसके प्रभाव को कम करने के लिए शनि निवारण कवच  का निर्माण किया गया है | यह कवच सिर्फ उसे धारण करना है जिस पर शनि की साढ़ेसाती चल रही हो |


चमत्कारी कवच




SERVICES OF HIPNOTIZAME

वशीकरण