चमत्कारिक टोटका – डूबा हुआ धन वापिस पाने का टोटका


Chamtkarik Totka - Duba hua dhan vapis pane ka totka

बुद्धवार को प्रातः काल स्नान करने के बाद जिस व्यक्ति या महिला ने आपसे रकम ली हो उसका नाम कागज़ पर लिख कर रख ले | अब एक आटे के दिया में सरसों का तेल डालकर उसे जला ले | अब दिया और कागज़ को लेकर किसी भी चौराहे पर जाकर कागज़ को दिए के ऊपर  रख कर जलने दे और मन ही मन अपनी रकम वापिस पाने की कामना करे | यह उपाय लगातार चालीस दिनों तक करते रहे या जब तक आप की डूबी हुई रकम वापिस ना मिल जाए | प्रतिदिन घर वापिस आकर ग्यारह बार  हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य ही करे | रकम वापिस आने के बाद  हनुमान मंदिर में ग्यारह रूपये का प्रसाद चढ़ावे |

विदेश जाने के लिए टोटका -  यह सिद्ध प्रयोग करने के लिए किसी भी संक्रांति के दिन सफ़ेद तिल और थोड़ा सा गुड ले | सूरज को डूबने के समय सामग्री को मिटटी के कुल्हड़ में डालकर उस कुल्हड़ को पीपल के स्वाम ही गिरे हुए पत्ते से ढक दे | अब कुल्हड़ को किसी भी आक के पौधे की जड़ में रख आये | आटे समय पीछे मुड़ कर ना देखे | घर आकर नहाने के जल में केशर को डालकर स्नान कर ले | उपाय की श्रद्धा से करे सफलता अवश्य ही मिलेगी |

नौकर या कर्मचारी के टिके रहने का टोटका - `आपकी दूकान के,फैक्ट्री के या घर के कर्मचारी या नौकर यदि बार बार काम छोड़कर चले जाते हो तो आप किसी भी शनिवार को घर से कार्य स्थल को जाते समय रस्ते में किसी भी जगह पड़ी हुई किसी भी कील को  उठा कर ले आवे और उसे काले भैसे के मूत्र में धोकर अपनी फक्ट्री के साउथ की दीवाल पर कही भी ठोक दे | अपने कर्मचारियों को काम करने के लिए हमेशा साउथ दिशा में  ही  स्थान दे | आपके कर्मचारी कभी भी काम छोड़कर नहीं जायेंगे |

पति को वश में करने का टोटका – पति को सम्मोहित करने या वश में करने के लिए रवि पुख्य योग के दिन सात फूल दार लौंग को लेकर उन्हें धुप दीप देखाकर निम्नलिखित मंत्र से सिद्ध कर ले |

ॐ  एंग कलीम चामुन्दाये बिच्चे ||

लौंग को सिद्ध करने के लिए इस मंत्र को ग्यारह बार जपना चाहिए | इसके बाद इसी मंत्र से इक्कीस बार हवन करके आहुति भी डालनी चाहिए | फिर लौंग को थोड़ा थोड़ा करके अपने पति को खिलाते रहे |यह उपाऊ पति के अलावा भी किसी भी पुरुष को वश में करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है |

संतान सुख पाने का टोटका –

मंदिर के बाहर बैठे छोटे छोटे बच्चो को कुछ फल और मिठाई बाटते रहे,मीठी रोटिया कुत्ते को खिलावे , गाय को नित्य रोटी और गुड खिलावे ,यदि चन्द्रमा के कारण संतान ना हो रही हो तो पुराने गुड को खाली जमीं के अंदर दबा दे ,मंगल दोष से यदि विवाह में बाधा रही हो तो गुड का दान भिखारियों को करे ,बुद्ध से सम्बंधित उपाय करने के लिए घर के मंदिर में गंगाजल रखना चाहिए ,केशर का तिलक लगानेसे गुरु ग्रह की बाधा समाप्त हो जाती है ,सूर्य ग्रह के लिए सात प्रकार का अनाज चीटियों को डाले ,शुक्र ग्रह से यदि बाधा आ रही तो  बहते जल में सफ़ेद पुष्प प्रवाहित करे | शनि ग्रह के कारण संतान बाधा को समाप्त करने के लिए एवं शनि की शान्ति के लिए काले कपडे में काला तिल बाँध कर बहते जल में प्रवाहित कर दे | राहू और केतु ग्रह से संतान बाधा को समाप्त करने के लिए नाग पंचमी के दिन नाग को जंगल में छोड़ देना चाहिए | और मंदिर में  चितकबरा कम्बल या ऊनि वस्र का दान करने से संतान बाधा समाप्त हो जाती है | इसके अलावा संतान की बाधा को समाप्त करने के लिए पुत्रजिवा की माला से संतान गोपाल के मंत्रो का जाप करे और शंख पुष्पी के बीज और तुलसी के बीजो का नित्य सेवन करे ||

कालसर्प दोष निवारण के टोटके

मन की शान्ति के लिए नित्य प्रातः काल साबुत लाल मसूर की दाल को किसी भी सफाई कर्मचारी को दान दे साथ ही सफाई कर्मचारी को चाय के लिए भी पैसे दे |बिमारी से परेशान हो तो अपने वजन के बराबर जौ या कोयला लेकर बहते हुए जल में प्रावाहित करे |काला सफ़ेद कम्बल धर्म स्थान में दान दे |ससुराल से डबलबेड लेकर पति और पत्नी उसी पर सोये | जटा वाला कच्चा नारियल  लेकर लगातार तिरालिस दिनों तक बहते जल में प्रवाहित करे |नाग पंचमी के दिन चांदी के नाग और नागिन की पूजा करकर जल प्रवाह करे |

  • जन्म कुंडली के प्रथम भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए ४०० ग्राम धनिया बहते हुए जल में प्रवहित करे |
  • जन्म कुंडली के दुसरे भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिएचांदी की हाथी का जोड़ा शयनरूम मर रखे |
  • जन्म कुंडली के तीसरेभाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए बिल्ली के जेर को घर में रखे |
  • जन्म कुंडली के चौथे भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए ४०० ग्राम साबुत बादाम बहते जल में प्रवाहित करे|
  • जन्म कुंडली के पांचवा भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए काले रंग का चश्मा लगावे |
  • जन्म कुंडली के छठे भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए ४०० ग्राम का सिक्का बहते जल में प्रवाहित करे |
  • जन्म कुंडली के सातवे भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए घर के अंदर के सभी खिडकिया काले रंग के करे |
  • जन्म कुंडली के आठवे भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए हाथी के पाँव के नीचे के पाँव की मिटटी कुए में डाले |
  • जन्म कुंडली के नवम भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिएसरसों या तम्बाखू का दान करे |
  • जन्म कुंडली के दशम भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए झूठ ना बोले झूठी गवाही ना दे |
  • जन्म कुंडली के ग्यारहवे भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिएपरिवार से अलग ना रहे |
  • जन्म कुंडली के बारवे भाव में कालसर्प दोष निवारण के लिए घर में जानवर ना पाले |

बाधा निवारण के अचूक टोटके – समस्या निवारण के लिए




SERVICES OF HIPNOTIZAME

वशीकरण