इंद्रजाल के टोटके


Inderjal Ke Totke

जब सभी तरह के टोटको को या मंत्रो को अजमा कर देख ले और फिर भी कोई फायदा नहीं होता हो तो हमें भारत की प्राचीन विद्या इंद्रजाल के अचूक टोटको का प्रयोग करना चाहिए | इंद्रजाल का यह टोटका  बहुत ही प्रभावशाली है | प्राचीन  इंद्रजाल टोटके को प्रयोग में लाने से शंका की कोई भी गुंजाईस ही नहीं रह जाती है इन्दरजाल के टोटको का रिजल्ट सौ प्रतिशत आता है  है | इन्द्रजाल के टोटको से मनचाही स्त्री या पुरुष का वशीकरण किया जा सकता है | इन्द्रजाल के टोटके पति पत्नी में प्रेम बढाने के लिएकिया जाता है |इन्द्रजाल के टोटके व्यापार में आ रही बाधा को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है | इन्द्रजाल का टोटका भूत प्रेत बाधा निवारण के लिए तथा सिद्धि प्राप्त करने के लिए भी  किया जाता है | यदि आप स्वस्थ हो आपका शरीर निरोगी हो तो आपका मन व्यापार या नौकरी में भी लगता है | बेहद प्राचीन बृहद इंद्रजाल के टोटको के प्रयोग से मनुष्य अपनी सभी सपनो को पूरा कर सकता है |

इंद्रजाल के टोटको से पति वशीकरण :

यदि किसी भी महीने की शनिवार को अमावस्या हो तो उससे एक दिन पहले स्त्री यदि लौंग को अपने पसीने में भिगोकर और वशीकरण मंत्र से अभिमंत्रित करके यदि किसी तरह से पति को खिला दे तो पति जीवन भर पत्नी के वश में रहता है और कभी भी वह पत्नी से लड़ाई या मारपीट नहीं करता है  |

इंद्रजाल के टोटको से पत्नी  वशीकरण:

यदि पति किसी भी पवित्र नदी के किनारे स्थित शमशान भूमि में रात्री के दो बजे पीपल के पेड़ के  नीचे बैठकर निम्न लिखित मंत्र का सवा लाख बार यदि जाप करके मंत्र को पहले सिद्ध कर ले और फिर इसी मंत्र से लौंग या इलायची को अभिमंत्रित करके अपनी पत्नी को किसी भी बहाने से खिला दे तो पत्नी जीवन भर पति की बनी रहेगी | पति के इशारों पर जीवन भर चलेगी |

मंत्र :

|| ॐ ह्रीं क्लिं काल रात्री (मम पत्नी ....)मोहनं मम वश्यं  कुरु कुरु  स्वाहा स्वाहा  ||

इंद्रजाल के टोटको से प्रेमिका का वशीकरण :

किसी महीने की पूर्णमासी को या शरद पूर्णिमा को या किसी शुभ योग में जब चन्द्रमा बलवान हो तो शुद्ध गोरोचन , शुद्ध केसर , शुद्ध रक्त चन्दन , तथा तर्जनी उंगुली का खून मिलाकर एक बर्तन में या शीशी में एकत्र कर ले | फिर अखंडित भोजपत्र पर अनार की कलम से यन्त्र बनाकर | उस यन्त्र के मध्य में तीन रेखा खीच कर’ ह्रीं ‘ लिखे दुसरे में  क्लिं लिखकर मनचाही स्त्री या प्रेमिका का पूरा नाम लिखे | जब यन्त्र तैयार हो जाय तो तो निचे दिए गए मंत्र को सवा लाख बार पढ़कर सिद्ध करे | अब आप जब भी प्रेमिका को याद करके इस मंत्र को एक सौ आठ बार पढेंगे तो उसी समय से प्रेमिका आपके वश में हो जायेगी और आपके उंगलियों के इशारे पर जीवन भर नाचेगी  | 

मंत्र :

|| ॐ नमो भारवि देवी ( अमुकंप्रेमिका,,,, )मोहनं वश्यं वश्यं कुरु कुरु स्वाहा स्वाहा ||

इंद्रजाल के टोटको से प्रेमी का वशीकरण :

आप यदि स्त्री है या लड़की है और आप किसी भी पुरुष को या लड़के को अपने वश में करना चाहती है तो जिस लड़के या पुरुष को वश में करना हो उसके बाए पैर को धुल और चौराहे की मिटटी को लेकर मंगलवार को  रात्री में अथवा  बारह बजे दिन में लाकर दोनों को मिलाकर उसमे थोड़ा सा अपना थूक या मूत्र भी मिला ले फिर लोबान की धूनी दे और निम्न मंत्र का किसी भी सुनसान जगह पर बैठ कर  सवा लाख बार जाप करे | जाप के समाप्त हो जाने पर मंत्र से अभिमंत्रित करके धुल को अपने मनचाहे आशिक पर डाल दे |

मंत्र :

धुल लगाऊ प्रेमी पाऊ माता परमेश्वरी , जहा लागे मेरा दिल विदन लागे( अमुक ) को  तो राम चन्द्र की आज्ञा से वश में हो जाय  |

 

इंद्रजालप्रेमिका वशीकरण के टोटके , इंद्रजालप्रेमी वशीकरण के टोटके , इंद्रजालस्त्री वशीकरण के टोटके , इंद्रजालसंतान वशीकरण के टोटके ,इंद्रजालमुस्लिम वशीकरण मंत्र,इंद्रजाल, वशीकरण का उपाय

इंद्रजालप्रेमिका वशीकरण , इंद्रजालपति वशीकरण , पत्नी वशीकरण ,इंद्रजालसंतान वशीकरण , पति वशीकरण के मंत्र ,इंद्रजालपत्नी वशीकरण के मंत्र  ,इंद्रजालप्रेमिका वशीकरण के मंत्र  , इंद्रजालप्रेमी वशीकरण के मंत्र  , इंद्रजालस्त्री वशीकरण के मंत्र  , इंद्रजालसंतान वशीकरण के मंत्र  ,इंद्रजालपति वशीकरण के टोटके , इंद्रजालपत्नी वशीकरण के टोटके , इंद्रजालसंतान वशीकरण के टोटके ,

 

मोहित करने का मंत्र

||| काली माता काली रात काला भेजू पूरी रात दिन  |

जब भी वो आवे आधी रात तब मेरा मन मुझ लागे सारी रात जगावे  |||

भैरो वीर अमुकी को , लेटीको उठा लावे , जागती को जगा लावे |

सोती को दौड़ा लावे , हाल लावो , हरहाल में ले आवे |

यदि ना ना लावो तो सगी माँ बहन के सिर की कसम |

||| हरी  ॐ नमो साईं गुरु को सिद्ध  काली माता स्तंभिनी मोहिनी वाशिकरनी वस्यम करनी  |

मेरे मन की ( अमुकं )मोहिनी मम वश्य  वश्यं करि पूर्ति कुरु कुरु स्वाहा ॐ नमो फट स्वाहा  |

 

||| हरी ॐ नमो भैरवी तोहे मंत्र पढ़ी सुनाऊ , तोही या कलेजा लावे , तोही जीवता चाहे , जो वस्त्र ना होय तो  भैरो की की आन (अमुकश्य ) को वश्य वश्य कुरु कुरु , कर हिये लागे | मेरा कहा करे , शब्द साँचा पिंड कांचा , फुरो मंत्र इश्वरो बाचा ॐ हलिम कलीम फट स्वाहा  |

||| ॐ कलीम ॐ नमो बैतालाय आदि पुरुषाय (अमुकश्य ) वश्यं वश्यं कुरु कुरु स्वाहाॐ ह्रीं कलीम फट स्वाहा  |||

 

||| जयं ॐ वर वरदाय( अमुकश्य .....) वश्यं वश्यं कुरु कुरु विजय देहि देहि गणपतये नमः ॐ भैरवी नमः स्वाहा |||

 

||| श्रीं ह्रीं ॐ हां ग जूँ सः( अमुकं ) में वश्य वश्य कुरु कुरु स्वाहा स्वाहा  |||

 


इंद्रजाल के टोटके, इंद्रजाल के टोटको से पति वशीकरण, इंद्रजाल के टोटको से पत्नी  वशीकरण, इंद्रजाल के टोटको से प्रेमिका का वशीकरण, इंद्रजाल के टोटको से प्रेमी का वशीकरण, मोहित करने का मंत्र




SERVICES OF HIPNOTIZAME

वशीकरण