अचूक उपाय


Achook Upay

भूत प्रेत तथा रोग निवारण के उपाय : शनिवार की शाम को एक कटोरी में सरसों का तेल लेकर उसे गर्म कर ले फिर उसमे चमड़े का एक टुकडा डालकर दुबारा आग पर गर्म करे औए जब उसमे से धुँआ निकलने लगे तो उसमे एक नीबू निचोड़ दे साथ ही थोड़ी सी फिटकरी और एक कील डाल कर भूत या प्रेत से ग्रस्त या रोगी के ऊपर से उलटी दिशा में सात बार उतारा करते हुए भूत प्रेत या रोग से मुक्त होने की प्रार्थना करते रहे | अब समस्त सामग्री को तीन काली चूडियो के साथ किसी सुनसान जगह पर गढ्ढा खोद कर दबा दे | और गढढे के ऊपर एक कील भी ठोक दे | भूत प्रेत का असर ख़त्म हो जाएगा और रोगी बिलकुल ठीक हो जाएगा |

भूत प्रेत से बचने के लिए : रात को शयन के समय या शमशान में जाते समय ,अस्पताल में जाते समय अपने साथ पीपल की एक टहनी रखने से भूत प्रेत या अन्य नकारात्मक आत्माए पास नहीं आती है | भूत प्रेत से ग्रस्त बीमार को पीपल के पत्ते से या पीपल की लकड़ी से बने बर्तन में जल पिलाने से आत्माए दूर चली जाती है |

जिस भी व्यक्ति को आत्माए सताती हो उसको चाहिए की आत्माओं से प्रार्थना करते हुए कुछ पैसे निकालकर रख दे और आत्मा को जाने की विनती करे | और आत्मा से बिनती करे की यह पैसा मै किसी शुभ कार्य में ही खर्च करूंगा तो आत्मा उस व्यक्ति को छोड़ कर चली जाती है | आत्मा से छुटकारा पाने के बाद वह पैसा किसी धर्म कार्य में ही खर्च कर देना चाहिए |

शीघ्र विवाह का उपाय : किसी भी मंगलवार को पूर्व दिशा की तरफ मुख करके बैठे तथा सामने एक लकड़ी के चौकी पर लाल रंग का वस्त्र बिछाकर उस पर सिद्ध सियार सिंघी रख देना चाहिए | अब सियार सिंघी का धुप दीप से पूजा करते हुए निचे दिए गए मानता का जाप वैजन्ती की माला से एक सौ आठ बार करनी चाहिए |

मंत्र : ॐ कलीम कालिके , शिव प्रिये मम कार्य सिद्धं करी करी स्वाहा ||

               Om klim kalike shiv priye mam kary siddham kari kari swahaa ||

जो भी युवक या युवती विवाह  की कामना रखते हो उन्हें यह प्रयोग स्वम ही करना चाहिए | इस प्रयोग को करने से शीघ्र ही विवाह हो जाता है | तथा मनोवांछित जीवन साथी मिलता है | यह प्रयोग तीन माह तक प्रत्येक मंगलवार को करने बाद लाल वस्त्र और सियार सिंघी को बहते जल में प्रवाहित कर देना चाहिए |

कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए :गणेश चतुर्थी के दिन दाई और मुड़े हुए गणेश जी की तस्वीर अपनी दूकान के अंदर लगाना चाहिए | और गणेश जी को नित्य ही एक लौंग और सुपारी अर्पित करना चाहिए | साथ में बोलना चाहिए “ जय गणेश काटो कलेश “

काली गुंजा के उपाय : सफ़ेद तथा लाल रंग की गुंजा पायी जाती है | गुंजा को रतिया भी कहते है | तंत्र में इसका विशेष महत्व है | यदि आपको सिद्ध काली गुंजा मिल जाय तो इसे लाल वस्त्र में बाँध कर भण्डार में रख देने से अन्न की वृद्धि होती है | लाल और काली गुंजा को काले वस्त्र में बाँध कर कमर में बाँधने से काम शक्ति बढती है |काली गुंजा को पीस कर यदि इसका टीका काली जी की मूर्ति को लगाया जाय तो जल्द ही काली माता की सिद्धि मिल जाती है | अमावश्या की रात्री में काली गुंजा को शत्रु के घर में डाल देने से शत्रु का सब कुछ नष्ट हो जाता है | भूत प्रेत से ग्रस्त व्यक्ति को यदि चार या पांच काली गुंजा की माला गले में पहना दिया जाय तो प्रेत ग्रस्त रोगी जल्द ही ठीक होजाता है | गुंजा के दानो को काली कुतिया के दूध में घिस कर जिस भी किसी स्त्री के शरीर पर लगा दिया जाय तो वह स्त्री साधक के वश में हो जाती है |

  याददाश्त बढाने का उपाय : खरगोश के दांत को ताबीज में रख कर यदि अपने गले में कोई भी व्यक्ति धारण कर ले तो उसको याददाश्त पुनः वापिस आ जाती है |

गुप्त राज जानने का उपाय : मेढक की जीभ को किसी ताबीज में रख कर यदि किसी सोते हुए व्यक्ति के सीने पर इसे रख दिया जाय तो वह अपने सारे राज उगल देता है |

तबादला कराने का उपाय : रविवार को प्रातः स्नान के बाद साफ़ वस्त्र पहनकर ग्यारह लाल मिर्च को लेकर सूर्य के तरफ अर्पित करे और विनती करे की मेरा तबादला जल्द से जल्द हो जाय | उपाय करने के तिरालिस दिनो के भीतर ही तबादला हो जाएगा |

मान सम्मान पाने के उपाय : जामुन की टहनी को काटकर ताबीज में डालकर पहनने से हर जगह मान सम्मान मिलता है |

पुलिस का भय समाप्त करने हेतु उपाय : आम तौर पर बैरिंग में लगने वाली लोहे की गोली को लेकर उसे लाल रंग से रंग कर अपने पास रखने से पुलिस का भय समाप्त हो जाता है |

घर का कलेश समाप्त करने के उपाय : उल्लू के दोनों पैरो को घर के मुख्य दरवाजे के ऊपर काले धागे की सहायता से लटका देने से घर के लड़ाई झगडे बंद हो जाते है |

संतान प्राप्ति का उपाय : स्त्री जब गर्भ धारण करे तो चांदी की एक बासुरी बनाकर पति और पत्नी राधा कृष्ण के मंदिर में अर्पित कर दे तो गर्भ पात नहीं होगा |

 

जिन दम्पतियों की संतान नहीं है या हो कर मर जाती है या जिनके सिर्फ कन्या संतान ही है ऐसे दंपत्ति को प्रातः काल स्नान आदि से निवृत होकर पूर्व दिशा की तरफ मुख करके बैठ कर स्वेट वस्त्र धारण की हुई हाथ में कमल के पुष्प लिए हुए माँ गायत्री का ध्यान करना चाहिए | साथ ही पुत्रजिवा की माला लेकर गायत्री मंत्र का यथा शक्ति नित्य जाप करना चाहिए |

गुंजा की जड़ को ताबीज में भरकर कमर में धारण करने से पुत्र संतान की प्राप्ति होती है |

शुक्रवार को चावल बनाकर गाय को खिलाना चाहिए तथा चने की डाल को भिगोकर तोते को खिलाना चाहिए | और बैलो को गुड भी खिलाते रहना चाहिए | तथा गर्भवती स्त्री को तिल के तेल की मालिस भी कराते रहना चाहिए | प्रत्येक शनिवार को लोहे एवं तेल का दान करे | घोड़ी को उड़द की डाल खिलाते रहना चाहिए |

परीक्षा में पास होने का उपाय : इमली की पत्तिया बिर्वार को लाकर अपने किताबो में रखने से स्मरण शक्ति बढती है | विद्यार्थी को लाल रंग का पेन जिसकी कैप सुनहरी ही इस्तेमाल करना चाहिए | परीक्षा देते जाते समय आक की जड़ को अपने पास रखना चाहिए | परीक्षा में सफलता पाने के लिए भांग और चीनी के घोल को शिवलिंग पर अर्पित करना चाहिए |

रोग से मुक्त होने का उपाय : रोगी के सिरहाने रात को एक रूपये का सिक्का रख कर सोना चाहए और सुबह उस सिक्के को किसी शमशान क्र अंदर फेंक आना चाहिए |

व्यापार का घाटा दूर करने का उपाय : व्यापार में लगातार घाटा हो रहा हो तो किसी भी बुद्धवार को एक पीली कौड़ी , दो लौंग , दो छोटी इलायची , और अपने व्यापार स्थल की एक चुटकी मिटटी को लेकर सब की जला कर राख बना ले | राख को पान के पत्ते में रख कर उस पर ताबे का एक सुराख वाला सिक्का लेकर साड़ी सामग्री को बहते हुए जल में प्रवाहित कर दे | हो सके तो उस दिन व्रत रखे और कन्या को भोजन भी खिलावे | यह उपाय लगातार पांच बार करने से व्यापार फलने फूलने लगता है |

व्यापार में वृद्धि एवं धन के लाभ का टोटका : यह उपाय नवरात्रि के आठवे दिन किया जाता है | लाल रंग का एक चौकोर कपड़ा लेकर उसे एक लकड़ी की चौकी पर बिछा ले | चौकी पर देवी इकी मूर्ति की स्थापना करके कपडे पर साबुत चावल , लाल चन्दन का टुकडा , लाल गुलाब का साबुत फूल , तथा नारियल को रख कर साड़ी सामग्री को लाल कपडे में बाँध कर पोटली बनाकर अपने गल्ले में रख देने से व्यापार में बरकत होने लगता है |


वशीकरण के उपाय




SERVICES OF HIPNOTIZAME

वशीकरण